Wednesday , 16 October 2019
Breaking News
व्‍यापमं घोटाले में दो अभ्यर्थियों को कारावास

व्‍यापमं घोटाले में दो अभ्यर्थियों को कारावास

नई दिल्‍ली . सीबीआइ की विशेष अदालत ने मध्य प्रदेश में भर्ती से जुड़े व्यापमं घोटाले में दो अभ्यर्थियों को दोषी करार देते हुए सात साल की सजा सुनाई. सीबीआइ कोर्ट ने यह फैसला सोमवार को दिया.

 vyapam-scam

सीबीआइ ने एक बयान में कहा कि भोपाल में व्यापमं मामले के विशेष न्यायाधीश ने राकेश पटेल और तरुण उसारे को सात-सात साल सश्रम कारावास और 1,000-3,000 रुपये तक जुर्माने की सजा सुनाई है.

दोनों अभ्यर्थियों ने 2013 में पुलिस एएसआइ और सूबेदार पद पर भर्ती के लिए आवेदन दिया था. उच्चतम न्यायालय के आदेश पर सीबीआइ ने घोटाले की जांच की जिम्मेदारी संभाली. इससे पहले मध्य प्रदेश पुलिस इसकी जांच कर रही थी.

इस संदर्भ में पहले व्यापमं द्वारा नौ जनू, 2013 को आयोजित परीक्षाओं की ओएमआर शीट की चोरी और उसके साथ छेड़छाड़ के आपराधिक षड्यंत्र के आरोपों को लेकर मामला दर्ज किया गया था. आरोप है कि व्यापमं के कंप्यूटर प्रभाग में 15 जून, 2013 को जब स्कैन करने के लिए ओएमआर शीट वाले लिफाफे खोले गए तो उनमें से दो ओएमआर शीट गायब थी.

इसकी सूचना परीक्षा नियंत्रक को दी गई. उसके बाद चलाए गए तलाशी अभियान में सुरक्षा गार्ड के पास रखे बैग से दो ओएमआर शीट की फोटो कॉपी मिली. गार्ड ने बताया कि वह बैग व्यापमं के किसी कर्मचारी का है. जांच में यह बात सामने आयी की ओएमआर शीट व्यापमं के दो कनिष्ठ कर्मचारियों ने सुरक्षा गार्ड की मदद से चुराई थी.

आरोपियों की निशानदेही पर कचरे के ढेर से ओएमआर शीट मिली. मध्यप्रदेश पुलिस ने इस संबंध में दो अभ्यर्थियों उसारे और पटेल को भी आरोपी बनाया. पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ 29 जुलाई, 2013 को आरोपपत्र दायर किया.

अतिरिक्त सबूत जुटाने के बाद सीबीआइ ने 25 मई, 2017 को पांच आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया. निचली अदालत ने दो अभ्यर्थियों को दोषी पाया और व्यापमं के सुरक्षा गार्ड सहित तीन कर्मचारियों को बरी कर दिया.


Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*