Wednesday , 18 September 2019
Breaking News
संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने के लिए घर-घर जाकर प्रेरित कर रहे मुखिया व जनप्रतिनिधि

संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने के लिए घर-घर जाकर प्रेरित कर रहे मुखिया व जनप्रतिनिधि

छपरा, 20 अगस्त (उदयपुर किरण). सुरक्षित मातृत्व के लिए संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने और जिले के कुछ चिह्नित क्षेत्रों में घरेलू प्रसव में कमी लाने के लिए केयर इंडिया के सहयोग से स्वास्थ्य विभाग द्वारा नई पहल की गयी है. अब आशा एवं एएनएम के साथ संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने के लिए पंचायत के मुखिया व जन – प्रतिनिधि घर – घर जाकर लोगों को प्रेरित कर रहे हैं.

इससे संस्थागत प्रसव को लेकर आम-जनों के बीच जागरूकता बढ़ी है एवं घरेलू प्रसव में कमी देखने को मिल रही है. जन-प्रतिनिधियों के साथ बैठक केयर इंडिया के डीटीओ ऑन प्रणव कुमार कमल ने बताया भौतिक सत्यापन में पता चला कि सारण जिले के पानापुर प्रखंड के पृथ्वीपुर, गढ़ भगवानपुर, सतजोड़ा, खरवट, तुर्की नट टोला व मकेर, इसुआपुर, तरैया के नंदनपुर, पोखरेरा, सरायवसंत जैसे कई ऐसे गांव हैं, जहां पर संस्थागत प्रसव कम होते थे. इसको ध्यान में रखते हुए क्षेत्र के मुखिया एवं वार्ड पार्षदों के साथ केयर इंडिया के अधिकारियों द्वारा बैठक की गयी एवं उन्हें क्षेत्र में संस्थागत प्रसव की स्थिति से अवगत कराया गया. उन्हें घरेलू प्रसव से मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में होने वाली बढ़ोतरी के बारे विस्तार से चर्चा कर जानकारी दी गयी.

मुखिया व वार्ड पार्षदों से अपील की गयी है कि अपने क्षेत्र में संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने के लिए महिलाओं को जागरूक करें. अभी भी कई ऐसे गांव हैं, जिसे चिह्नित किया जा रहा है. ऐसे गांवों में क्षेत्रीय समस्या को समझकर लोगों को जागरूक करने से संस्थागत प्रसव में बढ़ोतरी संभव है. आशा एवं एएनएम के साथ जन – प्रतिनिधियों के सहयोग का नतीजा रहा कि चिह्नित क्षेत्रों में संस्थागत प्रसव में बढ़ोतरी दर्ज हुई है.

 क्या कहते है विकास मित्र

पानापुर प्रखंड के धेनुकी पंचायत के विकास मित्र अम्बिका राम ने बताया कि पहले जानकारी के अभाव में गर्भवती महिलाओं का प्रसव घर पर होता था लेकिन केयर के द्वारा मीटिंग में हम लोगों को जानकारी मिली, जिसके बाद हम लोग महिलाओं को अस्पताल में जाने के लिए प्रेरित करते है. यहां की आशा पाशपति देवी गर्भवती महिलाओं को संस्थागत प्रसव के लिए सरकारी अस्पतालों में लेकर जाती हैं.

मकेर प्रखंड के हैजलपुर गांव के विकास मित्र अजय राम ने बताया कि जब से केयर के द्वारा यह मीटिंग हुई है. तब से अधिकांश महिलाओं का प्रसव अस्पताल में ही कराया जाता है. इसके लिए घर – घर जाकर जागरूक करते है. जागरूकता का प्रभाव समुदाय में देखने को मिला है. घरेलू प्रसव की संख्या में काफी कमी आयी है.

 संस्थागत प्रसव में हुआ सुधार

आशा एवं एनएम के साथ जन – प्रतिनिधियों के सहयोग के कारण पनापुर एवं मकेर प्रखंड में संस्थागत प्रसव की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. पानापुर प्रखंड के के धेनुकी गांव में कुल 15 से अधिक प्रसव हुए हैं. ये सारे प्रसव सरकारी अस्पताल पर ही हुए. मकेर प्रखंड के हैजलपुर गांव में भी कुल 10 से अधिक प्रसव हुए हैं. इससे शिशु मृत्यु र में भी कमी आई है.

Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News