Sunday , 26 May 2019
Breaking News
तुर्पिन दम्पति ने अपने 12 बच्चों को जेलनुमा घर में दी अमानवीय यातनाएँ!

तुर्पिन दम्पति ने अपने 12 बच्चों को जेलनुमा घर में दी अमानवीय यातनाएँ!

लॉस एंजेल्स. दक्षिण कैलिफ़ोर्निया के लॉस एंजेल्स के एक ईसाई दम्पति ने अपने ही बारह बच्चों को जेलनुमा घर में सालों तक चारपाई से ज़ंजीर में जकड़े रखने, उन्हें एक वक़्त का खाना देने, वहीं मलमूत्र करने और साल में एक बार नहाने की छूट दिए जाने जैसी अमानवीय यातनाएँ देने का सनसनीखेज़ मामला प्रकाश में आया है.

यह मामला उस समय प्रकाश में आया, जब घर में बंदी बने भाई बहनों में एक 17 साल की किशोरी ने पिछले साल जनवरी में 911 पर फ़ोन कर पुलिस को जानकारी दी और पुलिस ने डेविड-लूइस तुर्पिन दम्पति को रंगे हाथों गिरफ़्तार कर लिया.

इस मामले का खुलासा शुक्रवार को कैलिफ़ोर्निया की एक ‘रिवर साइड काउंटी’ के एक आदेश के साथ उस समय हुआ, जब अदालत ने तुर्पिन दम्पति को 25 साल की जेल की कड़ी सज़ा सुनाई तो अदालत के सामने दो बच्चों ने आँखों में आँसू लियए अपनी आपबीती सुनाई और अपने माता-पिता पर रहम की अपील भी की.

इस घटना के चश्मदीद गवाहों का कहना है कि लॉस एंजेल्स के पूर्व में 96 किलोमीटर दूर उपनगर ‘पेर्रिस’ के इस साधारण परिवार ने घर के बाहर स्थान को इस तरह साफ़ सुथरा रखा कि सालों तक किसी को भी अपने घर में बच्चों को दी जा रही अमानवीय यातनाओं का कभी अहसास नहीं होने दिया.

यह पूरी घटना शुक्रवार को इलेक्ट्रोनिक और प्रिंट मीडिया में सुर्खियों में छाई रही. डेविड और लूइस तुर्पिन दम्पति के तेरह बच्चे थे. उन्होंने गत 22 फ़रवरी को पुलिस और अदालत के सामने अपना अपराध स्वीकार कर लिया.

अदालत में बच्चों की सुनवाई के दौरान विशेष रूप से एक लेबराडार डॉग ‘रेडर’ बच्चों की हिफ़ाज़त के लिए मौजूद रहा, ताकि उनके माता-पिता अथवा कोई अन्य उन पर कोई हमला नहीं कर पाएँ. इसके लिए उन्होंने पुलिस से निवेदन किया था. अदालत में गवाह को बतौर सुरक्षा कैलिफ़ोर्निया ‘रेडर’ की सेवाएँ पुलिस की ओर से जुटाई जाती हैं. ये लेबराडर कुत्ते विशेष रूप से प्रशिक्षित होते हैं.


https://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline
Inline