Sunday , 26 May 2019
Breaking News
लापता डिप्टी मजिस्ट्रेट की पत्नी ने कहा: हमारे संबंध अच्छे थे, अफवाह न फैलाएं

लापता डिप्टी मजिस्ट्रेट की पत्नी ने कहा: हमारे संबंध अच्छे थे, अफवाह न फैलाएं

कोलकाता, 20 अप्रैल (उदयपुर किरण). लोकसभा चुनाव के बीच गुरुवार को लापता हुए नदिया जिले के डिप्टी मजिस्ट्रेट अर्नव रॉय की पत्नी अनीशा जैश ने उनके और उनके पति के बीच संबंधों को लेकर अफवाह नहीं फैलाने की गुजारिश की है. उन्होंने शुक्रवार देर रात फेसबुक पर एक पोस्ट लिखकर बताया है कि उनके पति पूरी तरह से मानसिक तौर पर स्वास्थ्य थे. उन दाेनों के बीच पारिवारिक संबंध भी बहुत अच्छे और प्रगाढ़ हैं. किसी भी तरह से उन्हें ढूंढ निकालना ही मेरा मुख्य लक्ष्य है. आप लोग किसी भी तरह की अफवाह न फैलाकर अर्नव को तलाशने में मदद करें.

उल्लेखनीय है कि गुरुवार दोपहर डिप्टी मजिस्ट्रेट अर्नव रॉय अपने कार्यालय से गायब हो गए थे. नदिया जिले में चुनाव संपन्न कराने के लिए चुनाव आयोग ने उन्हें नोडल ऑफिसर के रूप में नियुक्त किया था और जिले में सभी ईवीएम तथा वीवीपैट की जिम्मेदारी उन्हीं की थी. पुलिस ने इस मामले की जांच-पड़ताल शुरू की तो पता चला कि इलाके के 700 सरकारी सीसीटीवी खराब हैं. इसमें भी लोगों को किसी साजिश की बू आ रही है. नतीजतन डिप्टी मैजिस्ट्रेट के‌ गायब होने की खबर सुर्खियां बन गईं. फिलहाल, देर शाम पुलिस ने चुनाव आयोग को रिपोर्ट दी कि उनके लापता होने की वजह पारिवारिक है. वे तनाव में थे. उनका चुनाव से कोई लेना-देना नहीं है.

चुनाव आयोग की ओर से पश्चिम बंगाल के लिए विशेष पर्यवेक्षक के तौर पर नियुक्त किए गए अजय नायक ने भी शुक्रवार की शाम को बताया कि अर्नव के लापता होने के पीछे कोई व्यक्तिगत कारण है. इसके बाद मीडिया समेत सोशल साइट पर इसे लेकर अलग-अलग तरह की पोस्ट आने लगी, जिनमे अर्नव और उनकी पत्नी के साथ अच्छे संबंध नहीं होने के भी दावे किए गए. अर्नव की पत्नी भी जिले की डिप्टी मजिस्ट्रेट हैं. उन्होंने फौरन इस मामले का संज्ञान लिया. शुक्रवार की देर रात उन्होंने फेसबुक पर एक लंबी पोस्ट लिखी है.

उन्होंने लिखा है, ‘मेरे पति मानसिक तौर पर पूरी तरह से स्वास्थ्य थे. हमारे पारिवारिक संबंध भी बहुत अच्छे और प्रगाढ़ थे. किसी भी हालत में उन्हें ढूंढकर बाहर निकालना ही मेरा मुख्य लक्ष्य है. इस समय मेरी और कोई चाहत नहीं है….’ मीडिया से अनुरोध करते हुए उन्होंने लिखा है, ‘ऐसे समय में अफवाह न फैलाकर मेरे पति को ढूंढकर बाहर निकालने में मदद करें….’

जिलाधिकारी (नदिया) सुमित गुप्ता ने कहा है कि अर्नव के गायब होने के पीछे चुनाव का कोई कनेक्शन नहीं है, लेकिन जांच में यह बात सामने आई है कि बुधवार को कृष्णानगर में ईवीएम के दायित्व से हटाकर बीपीआरडीओ अजमल हुसैन को कृष्णानगर ईवीएम का प्रभारी बना दिया गया था. इसके बाद गुरुवार से ही वह लापता हैं. कृष्णानगर और राणाघाट लोकसभा क्षेत्र में आगामी 29 अप्रैल को चुनाव होना है. उससे 11 दिन पहले ही अर्नव लापता हो गए.


https://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline
Inline