Sunday , 20 January 2019
Breaking News
भाजपा पदाधिकारी गुटीय राजनीति के बजाय भाजपा को ही चेहरा मानेः डाड

भाजपा पदाधिकारी गुटीय राजनीति के बजाय भाजपा को ही चेहरा मानेः डाड

भीलवाड़ा, 14 जनवरी (उदयपुर किरण). भारतीय जनता पार्टी की रविवार को घोषित की गई जिला कार्यकारिणी की पहली बैठक सोमवार को जिला कार्यालय पर भाजपा जिला अध्यक्ष लक्ष्मीनारायण डाड की अध्यक्षता में आयोजित की गई.

बैठक को सबोधित करते हुए जिला अध्यक्ष डाड ने कहा कि सभी पदाधिकारी गुटीय राजनीति से परे हटकर आपस में समन्वय बनाये रखे और सक्रिय होकर जिले में मिशन 2019 के लक्ष्य को प्राप्त करने का कार्य करें. डाड ने कहा कि पदाधिकारी व कार्यकर्ता अपने स्वभाव को सौम्य बनाने के साथ कार्यकर्ताओं के सामाजिक सुख दुख में भागीदार बन कर उनकी समस्याओं के समाधान के लिए कार्य करें. उन्होंने कार्यकर्ताओं से पूर्ण मर्यादित होकर भाजपा संगठन की रीति नीति के अनुरूप कार्य करें. उन्होंने कहा कि राजस्थान में भाजपा भले ही विपक्ष में है पर विपक्ष में रहकर भी भाजपाई सकारात्मक कार्य करे. डाड ने कहा कि मिशन 2019 में लोकसभा चुनाव में पार्टी का प्रत्याशी चाहे कोई भी हो, भाजपा स्वयं ही पार्टी का चेहरा है. कार्यकर्ता को किसी भी गुट विशेष के बजाय भाजपा के प्रति समर्पित होकर कार्य करना होगा तभी मिशन 2019 को पूरा कर सकेगें.

बैठक में भीलवाड़ा जिले में किसानों को कड़कड़ाती ठंड में रात के समय दी जा रही विद्युत आपूर्ति से किसानों को हो रही परेशानी के बारे में चिंता व्यक्त की गई तथा राज्य सरकार से इस संबंध में सकारात्मक रूख अख्तियार करते हुए कार्यवाही की मांग की. इस संबंध में जिला कलेक्टर को ज्ञापन देने का भी निर्णय लिया गया. बैठक में भाजपा जिला महामंत्री लादू लाल तेली, प्रशांत मेवाड़ा, डा राजासाध वैष्णव, राकेश पाठक, जिला उपाध्यक्ष रामनाथ योगी, लक्ष्मीलाल सोनी, कैलाश जीनगर, शिवलाल डिडवानिया, जिला मंत्री प्रहलाद त्रिपाठी, अशोक शिशोदिया, जिला कार्यालय मंत्री चेतन मानसिंका, सुशील शाह, जिला कोषाध्यक्ष ललित अग्रवाल, जिला प्रवक्ता कैलाश सोनी, मीडिया प्रभारी विनोद झुरानी उपस्थित थे.

बाद में भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मीनारायण डाड के नेतृत्व में भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने एसडीएम टीना डाबी को जिले के किसानों को पिलाई हेतु रात्रि की बजाय दिन में बिजली दिलाए जाने बाबत ज्ञापन दिया. ज्ञापन में कहा कि सर्दी का प्रकोप है. किसानों को पिलाई हेतु मध्य रात्रि के समय बिजली दी जा रही है. सर्दी के साथ जहरीले जानवरों के काटने व अन्य दुर्घटना घटित हो रही है. इस कारण जिले के किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त हो रहा है. किसानों को खेती हेतु बिजली रात्रि के बजाय दिन में उपलब्ध कराने की व्यवस्था कराएं अन्यथा असंतोष कभी फुट सकता है.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*