Sunday , 20 January 2019
Breaking News
चित्‍तौड़ में बिरला सीमेंट फैक्ट्री के कुलिंग टावर में आग, डेढ़ करोड़ से अधिक का नुकसान

चित्‍तौड़ में बिरला सीमेंट फैक्ट्री के कुलिंग टावर में आग, डेढ़ करोड़ से अधिक का नुकसान

चित्तौडग़ढ़, 14 जनवरी (उदयपुर किरण). शहर के उपनगरीय क्षेत्र चंदेरिया स्थित बिरला सीमेंट फैक्ट्री के कुलिंग टावर में सोमवार अपराह्न अचानक आग लग गई. आग लगने से डेढ़ करोड़ से अधिक के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है. बिड़ला सीमेंट के अधिकारी नुकसान के आंकलन में जुटे हुए हैं. गनिमत ये रहा कि आग लगते ही कर्मचारी जल्दी से कुलिंग प्लांट से बाहर निकल गए, जिससे कि बड़ा हादसा टल गया और कोई जन हानि नहीं हुई. आग लगते ही प्लांट में भगदड़ मच गई और इस क्षेत्र से लोग सुरक्षित क्षेत्र में चले गए.

जानकारी के अनुसार आदित्य सीमेंट प्लांट में कुलिंग टावर में अपराह्न करीब 4.20 पर अचानक आग लग गई. आग टावर के पूरे क्षेत्र में फैल गई. इससे टॉवर में रखे उपकरण, मशीनें, फर्निचर आदि ने आग पकड़ ली. आग लगते ही प्लांट के इस टॉवर क्षेत्र में भगदड़ मच गई व कर्मचारी सुरक्षित निकल गए. देखते ही देखते आग पूरे टॉवर में फैल गई. तत्काल पूरे प्लांट में अलर्ट किया तथा दमकल के लिए सूचना की गई. दमकल पहुंचती तब तक आग ने विकराल रूप धारण कर लिया. दूर से ही आग की लपटें दिखने लग गई थी. वहीं पांच किलोमीटर दूर से धूएं का गुब्बार दिखाई दे रहा था. आग की सूचना पर बिड़ला सीमेंट प्लांट के उच्च अधिकारी मौके पर पहुंच गए. बिड़ला सीमेंट के अलावा हिन्दुस्थान जिंक, नगर परिषद आदि स्थानों से आई दमकल की सहायता से आग पर काबू पाया गया है. जानकारी में सामने आया कि बिड़ला सीमेंट का कुलिंग टावर पूरी तरह तबाह हो गया. इस आग से करीब डेढ़ करोड़ से अधिक के नुकसान का अनुमान है. इस दौरान बिड़ला सीमेंट के डीजीएम अनिल कुमार, असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट एसएस साहू, उपाध्यक्ष उत्पादन दिनेश कुमार सहित कई अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे.

दो माह में होगा दोबारा तैयार

बिड़ला सीमेंट के अधिकारियों ने बताया कि आग लगने से कुलिंग टॉवर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है. इसे तैयार कर चलाने में करीब दो माह का समय लग सकता है. इससे भी अधिक समय लगे इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता. प्रयास यह रहेगा कि इसे जल्दी तैयार कर लिया जाए.

बिजली की समस्या का करना पड़ेगा सामना

जानकारी में सामने आया कि कुलिंग प्लांट में आग लगने से अब इन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा. इसमें सबसे मुख्य रूप से बिजली की समस्या भी पैदा हो गई है. इसके लिए अल्टरनेट व्यवस्था की जा रही है तब तक बिजली के बिना बिरला सीमेंट प्लांट को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा. प्लांट के वाइस चेयरमेन दिनेश कुमार ने कहा कि इस प्लांट से प्रतिदिन लगभग 6.50 से 7 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता है. हर दिन इतनी ही बिजली की अल्टरनेट व्यवस्था के प्रयास होंगे.

दमकल ने २० फेरों में बुझाई आग

जानकारी में सामने आया कि मामले की सूचना मिलते ही प्लांट के अधिकारियों ने आपदा प्रबंधन के लिए फोन कर किया. इस पर बिड़ला सीमेंट की दमकल प्लांट परिसर से ही मौके पर पहुंच गई. इसके अलावा हिंदुस्तान जिंक चितौडग़ढ़, नगर परिषद की भी चार दमकल मौके पर आ गई. इन दमकल ने २० फेरे किए तब जाकर आग पर काबू पाया. आग पर काबू पाने में करीब ढाई घंटे का समय लगा.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*