Sunday , 20 January 2019
Breaking News
इंटरनेट और डिजिटल से आसान हुई पढ़ाई

इंटरनेट और डिजिटल से आसान हुई पढ़ाई

हरदा, 14 जनवरी (उदयपुर किरण). इंटरनेट ने हर फील्ड में अपना जलवा दिखाया है. इसके प्रभाव से शिक्षा का क्षेत्र भी अछूता नहीं है. शिक्षा को आसान बनाने के लिए इंटरनेट और टेक्नोलॉजी ने काफी सहूलियतें दी है. फिर चाहे वह बच्चों का एजुकेशन हो या फिर हायर एजुकेशन, हर फील्ड में इंटरनेट और टेक्नोलॉजी का प्रभाव दिखा है. शिक्षा के क्षेत्र में इसके सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं, जिससे समझने में आसानी और काम में तेजी जैसे फीडबैक मिले हैं. सीबीएसई, एमपी और आईसीएसई बोर्ड, तीनों में अब स्मार्ट स्टडी का कॉन्सेप्ट फॉलो किया जा रहा है. जब स्टूडेंट्स को स्मार्ट बोर्ड से पढ़ाया जाता है, वहीं यूट्यूब के वीडिया की मदद से स्टूडेंट्स को पढ़ाया जा रहा है. वीडियो के जरिए स्टडी करके बच्चे उसे जल्दी सीखते हैं, क्योंकि वे स्मार्ट बोर्ड में उन डायग्राम की वरैकिंग भी देखते है.

मप्र उच्च शिक्षा विभाग ने भी एजुकेशन को स्मार्ट बनाने के लिए स्मार्ट स्टडी का कॉन्सेप्ट जारी किया है. सरकारी कॉलेजों में फ्री वाइफाइ की सुविधा दी है, ताकि इंटननेट का इस्तेमाल कर शिक्षा के क्षेत्र में अनोखे काम किए जा सकें. कॉलेजों में लाइव लेक्चर की सुविधा है, जिसमें समय-समय पर विभिन्‍न विषयों के लेक्चर होते हैं. ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट्स के लिए यह लेक्चर सुविधाएं दी जा रही है. ट्रिपल आईटीडीएम में डिजिटल एजुकेशन में अधिक फोकस किया जाता है.

नेशनल नॉलेज नेटवर्क एनकेएन प्रोजेक्ट के तहत स्टूडेंट्स को वो सारी रिसर्च और बुक्स भी अवेलेबल हैं, जो अन्य स्थानों में नहीं मिल पाती है. इसके साथ ही लाइव लेक्चर्स की फेसेलिटी है, जिसमें आईआईटीज और ट्रिपल आइटीज के लेक्चर्स का फायदा स्टूडेंट्स को मिलता है. ट्रिपल आइटीडीएम में असाइंमेंट को आनलाइन देने की सुविधा भी कर दी गई है.

इसके साथ ही ऐसा सॉफ्टवेयर किया गया है, जिससे असाइंमेंट में कोई फैक्ट या थ्यौरी सीसीपी की गई होगी तो यह भी पकड़ी जा सकेगी. एजुकेशन वल्ड से जुड़ी कोई भी जानकारी हो स्टूडेंट्स के लिए वन क्लिक में हासिल हो चुकी है. सिर्फ क्लास वाइस स्टडी मैटेरियल नहीं, बल्कि अलग-अलग पैटर्न से जुड़ी जानकारी उनके लिए यहां उपलब्ध हो रही है, हालांकि वर्चुअल वल्ड के घेरे में घिरकर वे नई चीजों को तो सीख रहे हैं, लेकिन मॉरल वैल्यूज के मामले में पीछे हो रहे हैं.

वर्चुअल वल्ड इन दिनों स्टूडेंट्स पर सबसे ज्यादा हावी हो रहा है. वे वचुरअल वल्ड का उपयोग एजुकेशन के कई रोचक तथ्यों को हासिल करने के लिए कर रहे हैं, लेकिन गलत कंटेंट सीखना भी वर्चुअल वल्ड का ही हिस्सा है. स्टूडेंट्स को चाहिए कि वर्चुअल वल्ड से काम की चीजें सीखें. इस संबंध में स्वामी विवेकानंद, षा. पीजी महाविद्यालय के प्रशासनिक अधिकारी व्हीके बिछौतिया ने कहा कि वर्चुअल क्लास में ट्रिपल आइटीडीएम में असाइंमेंट को आनलाइन देने की सुविधा भी कर दी गई है.

 

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*