Saturday , 17 November 2018
Breaking News
राजस्‍थान में बेलगाम हो रहा मौसमी बीमारियां का प्रकोप

राजस्‍थान में बेलगाम हो रहा मौसमी बीमारियां का प्रकोप

जयपुर,16 अक्टूबर (उदयपुर किरण). प्रदेश में मौसम बीमारियों को लेकर मैराथन पर मैराथन बैठक कर रहे प्रशासन में तालमेल की कमी दिख रही है. डेंगू, जीका, वायरल, चिकिनगुनिया, स्क्रब टाइफस जैसी बीमरियों की जद में प्रदेश है. हर जिले में वायरल के बढ़े मरीजों ने प्रशासन की नींद उड़ा दी है. इतने बड़े पैमाने पर डेंगू की जांच में प्रशासन पसीना-पसीना हो रहा है. वहीं अब जीका से प्रभावित मरीजों का आंकड़ा 80 के करीब है वहीं डेंगू के मरीज हर जिले में बडी संख्या में सामने आ रहे है.

जयपुर में मरीजों की संख्या अब हर कॉलोनी से सामने लगी है. डेंगू के वायरस तो हर इलाके में सक्रिय है. ऐसे में फॉगिग उन्हीं वार्डों में नहीं हो पाई जहां पर जीका और डेंगू के मरीज व्यापक पैमाने पर सामने आ रहे है. शास्त्रीनगर में अभी भी अव्यवस्थाएं दिखाई देती है. प्रदेश के भरतपुर, अलवर, किशनगढ़, अजमेर, कोटा, श्री गंगानगर सहित बाकी इलाकों में डेंगू और वायरल का असर तेजी से फैल रहा है. मौसम बीमारियों को देखते हुए नर्सेजकर्मियों का डयूटी परियड दो घंटे अतिरिक्त समय देंगे इस संबंध एसोसिएशन अध्यक्ष प्यारेलाल ने बताया कि बीमारियों में हो रहे इजाफा को देखते हुए यह फैसला लिया गया है. अस्पताल मरीजों से अट रहे है. बीमारियों के कारण एसएमएस अस्पताल का धनवंतरि आउटडोर में इस मौसम में 30 फीसदी मरीजों का इजाफा हुआ है. हर सरकारी डिसपेंसरी में प्रतिदिन 300 से 400 मरीज आ रहे है.

विद्यार्थियों को दी जानकारी

यूपीएचसी अम्बाबाड़ी में स्वास्थ्य विभाग के मिशन निदेशक नवीन जैन ने जीका वायरस के प्रकोप का आंकलन एवं रोकथाम के लिए बियानी कॉलेज और शेखावाटी कॉलेज के विद्यार्थियों से सर्वे का आंकलन कर विद्यार्थियों की टीम को जीका वायरस के बारे में जानकारी दी गई. जीका वायरस निरिक्षण में डॉ पी. माथुर,जनस्वास्थ्य निदेशक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जयपुर द्वितीय डॉ. प्रवीण असवाल, डॉ. सुनील सिंह, संयुक्त निदेशक ग्रामीण स्वास्थ्य राजस्थान, एनयूएचएम जयपुर द्वितीय शहरी, कार्यक्रम प्रबंधक, बियानी, शेखावटी कॉलेज के प्राचार्य सुपरवाईजर,यूपीएचसी अम्बाबाड़ी के स्वास्थ्य कार्मिक कैलाश सैनी, ज्ञानेन्द्र, मुकेश, अजय कुमार एवं पब्लिक हैल्थ मैनेजर, दादी का फाटक रावण गेट आदि उपस्थित रहे.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*