Wednesday , 24 October 2018
Breaking News
बड़ीसादड़ी-नीमच वाया छोटीसादड़ी नवीन विद्युतीकृत रेलमार्ग स्वीकृत

बड़ीसादड़ी-नीमच वाया छोटीसादड़ी नवीन विद्युतीकृत रेलमार्ग स्वीकृत

चित्तौडग़ढ़, 06 अक्टूबर (उदयपुर किरण). केन्द्र सरकार ने मेवाड़ की वर्षों से चली आ रही बहुप्रतीक्षित मांग को स्वीकार करते हुये मेवाड़वासियों को सौगात प्रदान की है. सांसद सीपी जोशी के प्रयासों से क्षेत्र में पहली बार नई रेल लाईन सर्वे होने के बाद तत्काल रेललाइन की सैद्धान्तिक स्वीकृति इस वर्ष के बजट में मिली थी तथा केन्द्र सरकार ने सांसद जोशी की ओर से किए जा रहे लगातार प्रयासों से इसकी वित्तिय स्वीकृति जारी होने से क्षेत्रवासियों को यह सौगात मिल पायी है.

बडीसादडी-नीमच वाया छोटीसादड़ी (48 किमी) नवीन विद्युतीकृत रेलमार्ग की स्वीकृति इस क्षेत्र को केन्द्र सरकार की बहुमूल्य सौगात है. इस सौगात को मेवाड़ के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में अंकित किया जाएगा. इस रेललाइन के बनने से क्षेत्र के किसान, युवा, व्यापारी एवं आम जन रेल सेवा से जुड़ पाएंगे. इसके लिए केन्द्र सरकार के रेल मंत्रालय ने 495.18 करोड़ की राशि की स्वीकृति प्रदान की है.

इस नवीन रेलमार्ग से मालवा तथा मेवाड़ का संगम हो पाएगा. आजादी के बाद वर्षों से नीमच तथा बड़ीसादड़ी के मध्य रेलमार्ग के लिए क्षेत्रवासियों की मांग चल रही थी व कई आन्दोलन भी हुए. आजादी से पूर्व 1944 में पहली बार जब मावली से नीमच के लिए योजना बनी थी, उस समय केवल खेरोदा तक लाईन बिछाई गई. इसके बाद कानोड़ तथा 1945 में बड़ीसादड़ी तक लाइन बिछा दी गयी थी लेकिन मावली से नीमच तक की रेललाइन का स्वप्न अधुरा रह गया था. 1984 के आस-पास मावली बड़ीसादड़ी रेल को तत्कालीन सरकार की ओर से बन्द करने की अनुंशषा भी की गई. आजादी के पूर्व से लगा कर अब तक इसके लिए क्षेत्र की जनता ने कई मांगे की, प्रयास किए लेकिन प्रधान सेवक के रूप में कार्य करने वाले देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने क्षेत्रवासियों की मांग को गम्भीरता से लेते हुए न केवल मावली बडीसादडी के आमान परिवर्तन का कार्य स्वीकृत किया बल्कि इस नई रेललाइन के सामरीक महत्व को देखते हुऐ इसकी मंजूरी प्रदान कर दी है.

नीमच-बडीसादडी नवीन रेलमार्ग के लिए मेवाड़ में आजादी के बाद पहली बार नई रेललाइन बिछाई जायेगी एवं पूर्ववर्ती बजट में मावली-बडीसादडी (82 किमी) आमान परिवर्तन का कार्य चल रहा है. इसके साथ ही मावली-मारवाड़ (152 कि.मी.) के भी इस सरकार द्वारा आमान परिवर्तन के कार्य को स्वीकृति प्रदान किए जाने से मालवा से मेवाड़ तथा मारवाड़ का सीधा जुड़ाव हो जाएगा. इस रेल लाईन के लिए सांसद जोशी ने पूर्व में देश के रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर, रेल मंत्री सुरेश प्रभु, वर्तमान रेलमंत्री पीयूष गोयल से भेंट कर इस लाईन के महत्व तथा उपयोगिता को उनके समक्ष रखा था. इसके अलावा समय-समय पर संसद में लोकसभा के सत्र के दौरान भी इस लाईन की मांग को पुर जोर तरीके से रखा.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*