Friday , 18 October 2019
Breaking News

11 जिलोंं को पीछे छोड़ चित्‍तौड़ मदर मिल्क बैंक बना प्रदेश का नंबर वन, एक साथ चार सर्वश्रेष्ठ अवार्ड जीते

चित्तौड़गढ़। महिला एवं बाल चिकित्सालय में मदर मिल्क बैंक ने एक साल एक महीने में ही प्रदेश में अपना नाम रोशन कर लिया। सर्वाधिक दूध डोनेट कर जहां जिले की माताएं जहां पन्नाधाय के रूप में सामने आई। वहीं यहां नियुक्त स्टाफ ने ऐसी सेवाएं दी कि प्रदेश के 11 जिलों को पीछे छोड़ते हुए एक नहीं चार-चार श्रेणियों में प्रदेश में टॉपर हो गया। उल्लेखनीय है कि एक साल एक महीने में 2116 माताओं ने 5444 बार अपना दूध दान देकर दूसरों के 1062 नवजात शिशुओं को जीवनदान दिया।

प्रदेश में वर्तमान में 11 मदर मिल्क बैंक है। इसमें प्रदेश में प्रथम रैंक हमारे मदर मिल्क को मिली है। सेकंड पॉजीशन उदयपुर एवं थर्ड पॉजीशन पर भरतपुर का मदर मिल्क रहा। चिकित्सा विभाग ने फरवरी से दिसंबर के बीच मदर मिल्क में हुए कार्य का आंकलन किया था। उक्त अवधि तक हमारे जिले के मदर मिल्क में 483905 एमएल दूध 1609 माताओं ने यहां पर 4107 बार आकर डोनेट किया था। इसी कारण मंगलवार को प्रदेश स्तर पर हमारे मदर मिल्क को प्रदेश का टॉपर मदर मिल्क घोषित करते हुए एक नहीं चार श्रेणियों में पुरस्कार प्रदान किए गए। आंचल मदर मिल्क बैंक का वार्षिक समारोह जयपुर में इंदिरा गांधी ग्रामीण विकास संस्थान में हुआ।

चिकित्सा मंत्री कालीचरण सर्राफ, एनएचएम एमडी नवीन जैन, डीएमएस डॉ. वीके माथुर, डायरेक्टर आरएसीएच डॉ. एसएस मित्तल की उपस्थिति में सर्वश्रेष्ठ आंचल मदर मिल्क बैंक 2017 का अवार्ड प्राप्त किया। यही नहीं सर्वश्रेष्ठ मेडिकल इंचार्ज के रूप में डॉ. जयसिंह, सर्वश्रेष्ठ डोनर रूम इंचार्ज के रूप में पूजा दायमा, सर्वश्रेष्ठ पिडियाट्रिक काउंसलर के रूप में सविता चौधरी को सम्मानित किया गया।

The post 11 जिलोंं को पीछे छोड़ चित्‍तौड़ मदर मिल्क बैंक बना प्रदेश का नंबर वन, एक साथ चार सर्वश्रेष्ठ अवार्ड जीते appeared first on .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*