Sunday , 21 July 2019
Breaking News
साठ मिनट तक बंद रहा दिल, महिला को मिला जीवनदान

साठ मिनट तक बंद रहा दिल, महिला को मिला जीवनदान

कोटा, 10 अप्रेल (उदयपुर किरण). धरती पर भगवान कहे जाने वाले डॉक्टरों ने एक करिश्मा कर दिखाया है.लगभग 60 मिनट तक दिल की धड़कन बंद होने पर मौत के मुंह में जा चुकी एक महिला को फिर से जीवनदान देकर उसकी जान बचा ली. भारत विकास परिषद चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र के कार्डियक सर्जन डॉ. सौरभ शर्मा एवं उनकी टीम ने एक महिला मरीज के दिल की धड़कन बंद होने पर गंभीर हालत में ऑपरेशन कर जान बचाई. केस इतना गंभीर हो चुका था कि सीरियस हालत में ऑपरेशन थियेटर में ले जाने वक्त ही महिला के दिल की धड़कन बंद हो गयी, लेकिन चिकित्सालय के अनुभवी डॉक्टरों एवं टीम ने महिला को फिर से जीवनदान दे दिया. भारत विकास परिषद चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र के कार्डियक सर्जन डॉ. सौरभ शर्मा ने गुरुवार को पत्रकार वार्ता में बताया कि कोटा जिले के दीगोद कस्बे की रहने वाली 33 वर्षीय कैलाश बाई ने सांस भरने की शिकायत होने पर चिकित्सकीय सलाह पर जयपुर में हार्ट का ऑपरेशन कराया था.

डॉक्टरों ने वहां महिला की हार्ट सर्जरी कर वाल्व का ऑपरेशन किया था. करीब एक महीने से महिला को सांस में तकलीफ होने पर परिजनों ने 5 अप्रेल को भारत विकास में भर्ती कराया. डॉ. सौरभ ने बताया कि महिला के दिल की जांच करने पर पता चला कि कैलाश बाई का वाल्व स्टक हो जाने से ऐसा हो रहा था. अस्पताल में उसका खून पतला करने के इंजेक्शन से इलाज शुरू किया, लेकिन मरीज को कोई राहत नहीं मिली. अमूमन इस तरह के स्टकवाल्व से ग्रस्त मरीज को इंजेक्शन देकर खून पतला किया जाता है, जिससे खून का थक्का घुल जाता है, लेकिन इस केस में मरीज के हार्ट के वाल्व में जमा खून का थक्का नहीं खुला.

ओटी में ले जाते वक्त बंद हो गई धड़कन: डॉ. सौरभ ने बताया कि आराम नहीं मिलने पर 9 अप्रेल को मरीज की हालत एकदम गंभीर हो गई, मरीज को बैचेनी और सांस लेने में भारी तकलीफ हो गई. स्थिति को देखकर तुरंत ऑपरेशन के लिए मरीज को इमरजेंसी ओटी में ले जाने लगे, इसी दौरान मरीज का हार्ट कोलेप्स हो गया. दिल की धड़कन रूक गई. डॉक्टरों ने करीब एक घंटे तक लगातार मरीज को सीपीआर दी. जिससे मरीज का हार्ट थोड़ा बहुत चलने लगा, लेकिन मरीज का हालत काफी नाजुक थी. इस नाजुक एवं गंभीर स्थिति में डॉक्टरों ने हिम्मत व हौंसले से मरीज का रात आठ बजे ऑपरेशन शुरू किया. रात दो बजे तक ऑपरेशन कर वाल्व बदलकर मरीज को नया जीवनदान दिया. डॉ. सौरभ शर्मा ने बताया कि अब मरीज की हालत बिल्कुल ठीक है और वेंटीलेटर भी हटा दिया गया है.


https://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News