Sunday , 21 July 2019
Breaking News
साइकिल चलाने की डालें आदत तो कई रोग खुद हो जाएंगे छू-मंतर

साइकिल चलाने की डालें आदत तो कई रोग खुद हो जाएंगे छू-मंतर

लखनऊ, 02 जून (उदयपुर किरण). विश्व साइकिल दिवस पर 03 जून को परिवहन के एक सरल, किफायती, भरोसेमंद, स्वच्छ और पर्यावरणीय रूप से फिट टिकाऊ साधनों को प्रोत्साहित करने के लिए पिछले वर्ष उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने नई दिल्ली में कनॉट प्लेस पर साइकिल चालन का उद्घाटन किया, जिसमें पांच हजार साइकिल चालकों ने आठ किमी लंबी साइकिल चलाई. इस प्रयास के बावजूद अभी लोगों में साइकिल के प्रति जागरूकता नहीं आ रही है, जबकि जानकारों की मानें तो प्रति दिन आधा घंटा साइकिल चलाने मात्र से कई रोग पास नहीं फटकते. इसके अलावा पर्यावरण के लिए भी काफी अनुकूल है.

साइकिल चलाने से हृदय रोग व फेफड़ा रोग से मिलेगी निजात

इस संबंध में गोरखपुर के हृदय रोग विशेषज्ञ डा. अतुल शाही का कहना है कि यदि व्यक्ति आधा घंटा साइकिल प्रति दिन चलाये तो हृदय और फेफड़ा दोनों स्वस्थ रहेंगे. साइकिल चलाने से पूरे शरीर का व्यायाम हो जाता है. इससे फेफड़े को भी मजबूती मिलती है. यह देखने को मिलता है कि साइकिल चलाने वाले लोगों में हृदय से संबंधित रोग बहुत कम होने की संभावना होती है. उनके अनुसार साइकिलिंग करते समय आप सामान्य की तुलना में गहरी सांसें लेते हैं और ज्यादा मात्रा में ऑक्‍सीजन ग्रहण करते हैं, जिसके कारण शरीर में रक्‍त संचार भी बढ़ जाता है. साथ ही फेफड़ों के अंदर तेजी से हवा अंदर और बाहर होती है. इससे फेफड़ों की क्षमता में भी सुधार होता है और फेफड़ों में मजबूती आती है.

कैंसर का खतरा 45 फीसद हो जाता है कम

प्रयागराज के डाक्टर बृजभान यादव का कहना है कि साइकिल चलाना संपूर्ण व्यायाम है. इससे जहां एक ओर प्रदूषण कम होगा, वहींं स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक है. यदि व्यक्ति साइकिल चलाता है तो उसे कैंसर भी होने की कम संभावना होती है. उन्होंने बताया कि ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में अध्ययन प्रकाशित हो चुका है कि साइकिल के नियमित इस्तेमाल से कैंसर का खतरा 45 फीसद और दिल की बीमारियों का खतरा 46 फीसद तक कम हो जाता है. पैदल चलने से दिल की बीमारियों का खतरा 27 फीसद घट जाता है. साथ ही इन बीमारियों से जान जाने का खतरा 36 फीसद तक कम हो जाता है. पैदल चलना कैंसर की आशंका को कम नहीं करता है. शोध के दौरान 2,64,377 लोगों के आंकड़ों का अध्ययन किया गया, जिनकी औसत आयु 53 वर्ष थी.

चर्बी कम करने में मददगार

गाजीपुर के डाक्टर महेन्द्र पांडेय का कहना है कि साइकिल चलाने से धड़कन तेज होती है और ब्लड सर्कुलेशन ठीक होता है. इससे पैरों की अच्छी एक्सरसाइज हो जाती है और इससे पैरों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं. नियमित रूप से साइकिल चलाकर आप कुछ ही दिनों में वजन कम कर सकते हैं. ये शरीर में मौजूद अतिरिक्त चर्बी को घटाने में मददगार है. रोजाना साइ‍किल चलाकर आप फिट और एक्टिव बॉडी पा सकते हैं. रोजाना साइकिल चलाने से इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है, जिससे रोगों से लड़ने की क्षमता भी बढ़ती है. नियमित रूप से साइकिल चलाने वालों को अवसाद की शिकायत होने की आशंका बहुत कम होती है.

पीठ दर्द और तनाव से भी मिलती है मुक्ति

डाक्टर आरसी ठाकुर का कहना है कि तनाव के लिए कोर्टिसोल हार्मोन जिम्मेदार होता है लेकिन साइकिलिंग जैसी अच्छी एक्सरसाइज के जरिये यह हार्मोन अप्रभावी होता है. इससे आप तनावमुक्त और अच्छी नींद ले सकते हैं. इसके अलावा नियमित रूप से साइकिलिंग तनाव और अवसाद जैसी मानसिक समस्याओं से उबरने में भी काफी मददगार है. इससे शरीर का रक्त संचार ठीक होता है, जिससे इनसे उबरने में मदद मिलती है. डा. प्रशांत कुमार पांडेय ने बताया कि साइकिल चलाने के दौरान शरीर की सबसे आदर्श मुद्रा होती है. साइक्लिंग के दौरान पीठ की मांसपेशियां भी पूरी तरह से सक्रिय हो जाती हैं. इससे उनकी भी एक्सरसाइज होती है, जिससे पीठ दर्द से छुटकारा मिलता है. शहरी युवाओं में रीढ़ की हड्डी की समस्या बहुत ही आम है और साइकिल चलाने से आपकी रीढ़ की हड्डी को मजबूती मिलती है.

Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News