Thursday , 17 October 2019
Breaking News

यूपी ही नहीं पूरे भारत में बाराबंकी जिला मेंथा की खेती में अव्वल

बाराबंकी, 15 जून (उदयपुर किरण). दवा से लेकर ब्यूटी प्रोडक्ट और खाने-पीने की चीजों में इस्तेमाल होने वाले मेंथा ऑयल की मांग लगातार बढ़ती जा रही है. भारत इसका सबसे बड़ा उत्पादक है. नकदी फसल में शुमार मेंथा की सबसे ज्यादा खेती यूपी के बाराबंकी में होती है.
 बाराबंकी जिला पूरे उत्तर प्रदेश में अकेले 33% मेंथा आयल का उत्पादन करता है. तेल का उत्पादन पिछले वर्ष की तुलना में अधिक होने की उम्मीद की जा रही है. क्योंकि फसल का रकबा बढ़ा है. इस समय जिले के लगभग 75 परसेंट क्षेत्रफल में मेंथा की खेती की जा रही है. 90 दिनों में तैयार होने वाली इस फसल में किसान कुछ ही समय में अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं.
मेंथा किसान हुकुम सिंह की मानें तो मेंथा की बुआई की प्रक्रिया फरवरी महीने में शुरू होती है और लगभग 90 दिनों के अंदर किसान मेंथा की खेती से ऑयल निकाल लेते हैं. मेंथा की खेती नकदी फसल है. एक बीघे में तीन हजार की लागत लगाकर 10 से 15 किलो मेंथा ऑयल निकाल सकते हैं.
वहीं खेती के जादूगर के नाम से अपनी पहचान बनाने वाले पद्मश्री सम्मान पा चुके बाराबंकी के किसान रामसरन वर्मा ने बताया कि उत्तर प्रदेश ही नहीं पूरे भारत में बाराबंकी जिले में मेथा की खेती सबसे ज्यादा होती है. मेंथा खेती के मामले में बाराबंकी जिले ने विश्व में भी अपनी अलग जगह बना ली है. इस खेती में बहुत ज्यादा फर्टिलाइजर की जरूरत भी नहीं होती.

Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*