Monday , 16 September 2019
Breaking News
अब सरकारी अस्पतालों में भी उपलब्ध होगी रोटा वायरस वैक्सीन

अब सरकारी अस्पतालों में भी उपलब्ध होगी रोटा वायरस वैक्सीन


देहरादून, 30 मई (उदयपुर किरण). उत्तराखंड राज्य के सरकारी अस्पतालों में नौनिहालों को रोटा वायरस वैक्सीन भी लगेगी. अब तक यह वैक्सीन निजी अस्पताल में 1500 से 2000 रुपए तक में लगती थी. इसके अलावा टीकाकरण के प्रति लोगों का रुझान बनाए रखने के लिए सरकारी अस्पतालों के टीकाकरण कक्षों को सुंदर एवं आकर्षक बनाया जाएगा. जहां बच्चों के खेलने एवं मनोरंजन के इंतजाम भी किए जाएंगे.

नियमित टीकाकरण के स्तर में सुधार एवं टीकाकरण को अधिक प्रभावी बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के वरिष्ठ अधिकारियों ने वीरवार को जनपदों की समीक्षा की. जिसमें जनपदवार नियमित टीकाकरण की प्रगति के बारे में जानकारी ली गई. एनएचएम निदेशक डॉ. अंजलि नौटियाल ने बताया कि राज्य में बच्चों के टीकाकरण में अपेक्षित सुधार हुआ है. उन्होंने निर्देश दिए कि बच्चे के पैदा होने के 24 घंटे के भीतर लगाए जाने वाले टीके किसी भी दशा में छूटने नहीं चाहिए और जन्म के समय लगने वाले टीकाकरण को सुनिश्चित करने के लिए डिलीवरी कक्ष में ही सभी तैयारियां पूर्व से कर ली जाए.

 राज्य का टीकाकरण 92 प्रतिशत

 राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी एवं अपर निदेशक डॉ. सरोज नैथानी ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के विषेशज्ञ चिकित्सकों द्वारा विगत एक वर्ष के दौरान राज्य में 17 हजार 624 बच्चों के नियमित टीकाकरण की निगरानी की गई. जिसके परिणामों के अनुसार राज्य का टीकाकरण स्तर 92 प्रतिशत हो गया है. इसी टीम द्वारा गत वर्ष 2017-18 के दौरान भी राज्य के 10,247 बच्चों के टीकाकरण की निगरानी की गई थी और टीकाकरण का स्तर 83 प्रतिशत पाया गया था. टीम द्वारा टीकाकरण की निगरानी के दौरान 0-23 माह उम्र वाले बच्चों को लेकर यह सर्वे किया गया था.

 टीकाकरण कक्ष का होगा कायाकल्प

 समीक्षा में जनपदों को निर्देश दिए गए कि टीकाकरण कक्षों को आकर्षक एवं सुंदर बनाया जाए. ताकि टीकाकरण के लिए आने वाली माताओं एवं बच्चों में नियमित टीकाकरण के प्रति उत्साह बना रहे और टीकाकरण से कोई भी बच्चा वंचित न रह सके. यह निर्देश दिए गए कि टीकाकरण कक्षों में बच्चों के खेलने एवं मनोरंजन का वातावरण भी उपलब्ध कराया जाए. दाखिले के लिए प्रतिरक्षण प्रमाण-पत्र अनिवार्य  उत्तराखंड में टीकाकरण के स्तर में सुधार के लिए राज्य सरकार अत्यंत संवेदनशील है. उल्लेखनीय है किगत चार  जनवरी को सचिव चिकित्सा नितेश कुमार झा ने अधिसूचना जारी की थी कि राज्य के स्कूलों में प्रवेश के लिए बच्चे का प्रतिरक्षण प्रमाण-पत्र अनिवार्य होगा. डायरिया में प्रभावी है रोटा वायरस भारत सरकार की सहायता से आने वाले दिनों में राज्य के लिए रोटा वायरस के लिए टीकाकरण भी प्रारंभ हो रहा है. डायरिया जैसी जानलेवा बीमारी से बचाव में रोटा वायरस नाम की वैक्सीन द्वारा टीकाकरण अभी तक प्राइवेट क्लीनिकों द्वारा ही किया जा रहा है. अब सरकार द्वारा चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान द्वारा निश्शुल्क लगाया जाएगा.

Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News

Inline

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News